सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मजाक बनाना कॉमेडियन को पड़ा भारी, मांगनी पड़ी माफी

सुशांत सिंह राजपूत का नाम तो पूरे दुनिया में अमर हो चुका है. सुशांत की मौत का मजाक बनाने के चलते सोशल मीडिया पर डेनियल की काफी आलोचना हो रही है. इन आलोचनाओं के बाद डेनियल ने अपने इंस्टाग्राम पर एक माफी का नोट शेयर किया है.इसके पहले कुछ ही दिन पहले हिंदू देवी-देवताओं पर टिप्पणी के आरोप में स्टैंड-अप कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी को गिरफ्तार किया गया था. अब एक और कॉमेडियन को सोशल मीडिया पर काफी ट्रोल किया जा रहा है. कॉमेडियन डेनियल फर्नांडीज को सोशल मीडिया पर लोग ट्रोल कर रहे हैं और उनकी आलोचना हो रही है. डेनियल ने अपने हाल ही के कुछ एक्ट में दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर मजाक उड़ाया था.

स्टैंड अप कॉमेडियन है डेनियल

डेनियल फर्नांडीज मुंबई के स्टैंड-अप कॉमेडियन हैं जो अधिकतर डार्क कॉमेडी के लिए जाने जाते हैं. डेनियल की कुछ क्लिप्स सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं जिसमें वो सुशांत सिंह राजपूत की मौत और उनकी मौत के बाद रिया चक्रवर्ती पर लगे आरोपों पर जोक सुना रहे हैं. अपने एक्ट में वो सुशांत की मौत का मजाक बनाते हैं साथ ही ये भी कहते हैं कि रिया चक्रवर्ती को लेकर पूरा देश ऑब्सेस्ड हो चुका है.

अपने एक्ट में डेनियल मेंटल हेल्थ और जस्टिस फॉर सुशांत हैशटैग की भी आलोचना करते हुए मजाक बनाते हुए देखे जा सकते हैं. वीडियो में डेनियल कंगना रनौत को ‘सीबीआई डायरेक्टर’ भी कहते हैं. जब से ये वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हुई हैं तब से सोशल मीडिया पर लोग डेनियल की आलोचना कर रहे हैं. कई लोग उनकी गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं ,जबकि कुछ लोग उनके परिवार को भी बद्दुआ देते नजर आ रहे हैं.

सोशल मीडिया पर हो रही है कॉमेडियन की आलोचना

सोशल मीडिया पर हो रही इतनी आलोचना के बाद डेनियल ने अपने इंस्टाग्राम पर एक माफी का नोट शेयर किया है. उन्होंने इस पोस्ट में लिखा है कि उनके लेटेस्ट वीडियो से कई लोग आहत हुए हैं क्योंकि उन्होंने दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मजाक बनाया है इसलिए वो माफी मांगते हैं.

सोशल मीडिया पर डेनियल की ये आलोचना उस वक्त हो रही है जब कुछ ही दिन पहले मुनव्वर फारूकी नाम के एक स्टैंड-अप कॉमेडियन को हिंदू देवी-देवताओं का और गृह मंत्री अमित शाह का मजाक बनाने के लिए गिरफ्तार किया गया है. मुनव्वर की गिरफ्तारी के बाद सोशल मीडिया पर लोग बंट गए हैं. कुछ उनकी रिहाई की मांग कर रहे हैं जबकि कुछ उनकी गिरफ्तारी को सही ठहरा रहे हैं.