गलवान घाटी में शहीद बिहार के इन 5 लाल को मिला वीरता पदक

galwan ghati

पूरा देश इस समय 72वां गणतंत्र दिवस मना रहा है. इस बार गलवान घाटी में शहीद हुए बाहर के 5 लाल को वीरता पदक दिया जाएगा. ये पांच जवान चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में शहीद हुए थे. सभी जवान बिहार रेजिमेंट में तैनात थे. बिहार बटालियन के कर्नल संतोष बाबू सहित इंडियन आर्मी के 5 जवान को खास सम्मान मिलेगा. वीरत पदक पाने वाले जवानों में बिहटा के सुनील, समस्तीपुर के अमन, सहरसा के कुंदन, भोजपुर के चंदन और वैशाली के जयकिशोर को यह वीरता पदक मिलेगा. इसके अलावे बिहार रेजिमेंट के कर्नल बी संतोष बाबू को जो हैदराबाद के रहने वाले थे उनको महावीर चक्र और नायब सूबेदार नुडूराम सोरेन को उड़ीसा के रहने वाले थे उनको वीर चक्र मरणोप्रांत दिया जाएगा.

इस बार की परेड़ है खास

virata medal

इस बार गणतंत्र दिवस की परेड काफी खास हैं. कोरोना के बीच 26 जनवरी को होने वाली गणतंत्र दिवस परेड बहुत छोटी है. इस बार परेड विजय चौक से शुरू होकर नेशनल स्टेडियम तक ही जाएगी. अभी तक रिपब्लिक डे परेड राजपथ से शुरू होकर लाल किले तक जाती थी. पहले परेड की लंबाई 8.2 किलोमीटर होती थी, लेकिन इस बार विजय चौक से नेशनल स्टेडियम तक यह 3.3 किलोमीटर ही लंबी होगी. परेड देखने का मौका भी इस बार कम लोगों को मिलेगा. जहां हर साल रिपब्लिक डे परेड देखने 1 लाख 15 हजार लोग मौजूद रहते थे. वहीं इस बार 25 हजार लोग ही मौजूद रहेंगे. हर बार 32 हजार टिकट बेचे जाते थे, लेकिन इस बार 7500 लोग ही टिकट खरीद पाएंगे.

क्या था गलवान घाटी का किस्सा

galwan ghati

ऐसा माहौल पिछले कई महीनों से तनाव की स्थिति बनी ही हुई हैं. 15-16 जून को लद्दाख की गलवान घाटी में एलएसी पर हुई एक झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल समेत 20 सैनिकों की मौत हुई थी. भारत का दावा है कि चीनी सैनिकों का भी नुक़सान हुआ है, लेकिन इसके बारे में चीन की तरफ़ से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया था. चीन ने अपनी सेना को किसी भी तरह का कोई नुक़सान होने की बात नहीं मानी है. इसके बाद दोनों देशों में पहले से मौजूद तनाव और बढ़ चुका है.