तेजस्वी यादव ने DM को लगाया फोन, तो साहब तू-तड़ाक कर करने लगे बात, जब पता चला तो बंद हुई बोलती

tejsawi yadav

पटना के इको पार्क में शिक्षक अभ्यर्थियों द्वारा किए गए आंदोलन में तेजस्वी यादव सभी की समस्या सुनने और उसके समाधान करने के लिए पहुंचे, जहां पर उनके पहुंचते ही तेजस्वी यादव के जिंदाबाद के नारे गूंजने लगे। इस आंदोलन में हजारों की संख्या में शिक्षक अभ्यर्थी मौजूद हैं। अभ्यर्थियों की समस्या सुनने के दौरान ही तेजस्वी यादव ने पटना के डीएम डीजीपी और मुख्य सचिव को फोन मिलाया और बातचीत की।

tejsawi yadav

तेजस्वी यादव को नहीं पहचान पाए पटना के डीएम

तेजस्वी यादव ने बिहार के मुख्य सचिव डीजीपी और डीएम को बातचीत के लिए कॉल लगवाई। मुख्य सचिव के बाद डीजीपी ने तेजस्वी यादव से फोन कॉल पर बात कर ली लेकिन जब तेजस्वी यादव ने पटना के डीएम चंद्रशेखर सिंह को कॉल लगाया तो वे तेजस्वी यादव को पहचान नहीं पाए और उनसे तू तू करके बातें करने लगे।

यह भी पढ़े: बिहार के पटना में बनेगा विश्व का सबसे बड़ा अस्पताल, 23 जनवरी को सीएम नीतीश करेंगे शिलान्यास

उन्हें कुछ भी समझ नहीं आया कि, फोन पर वह किस से बात कर रहे हैं? जैसे ही तेजस्वी यादव ने फोन पर अपना नाम बताया तुरंत ही डीएम साहब ने हड़बड़ाहट से “सर सर” पुकारना शुरू कर दिया। इस दौरान तेजस्वी यादव ने डीएम साहब से गंभीरता से हुई बातचीत के दौरान गर्दनीबाग धरना स्थल पर धरना देने की मांग रखी।

tejsawi yadav

क्या है पूरा मामला?

दरअसल मंगलवार की रात TET पास अभ्यर्थियों ने गर्दनीबाग में धरना प्रदर्शन किया शुरु था, लेकिन पुलिस ने लाठीचार्ज करने के बाद अभ्यर्थियों को वहां से खदेड़ दिया। इस बात को लेकर शिक्षक अभ्यर्थी 10 सर्कुलर रोड रावड़ी आवास पर तेजस्वी यादव से मुलाकात के लिए पहुंच गए। तेजस्वी यादव ने पुलिस के द्वारा किए गए इस व्यवहार को गलत बताया और अधिकारियों से बातचीत करने की भी बात कही। इसी दौरान तेजस्वी यादव ने कहा कि, गिरफ्तार किए गए अभ्यर्थियों को तुरंत बाहर किया जाए और केस वापस भी लिया जाए। यदि ऐसा कुछ नहीं किया जाएगा तो वह खुद धरना स्थल पर जाकर धरना देंगे।

tejsawi yadav

तेजस्वी यादव इन अभ्यर्थियों के बीच तब तक मौजूद रहे जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं की गई। लगातार पार्क में डटे रहने के बाद जिला प्रशासन ने गर्दनीबाग पर धरना देने की इजाजत दे दी। इजाजत मिलते ही तेजस्वी यादव सीधा गर्दनीबाग धरना स्थल गए और शिक्षक अभ्यर्थियों के साथ धरना देने के लिए बैठे रहे। यहां पर कुछ देर ठहरने के बाद तेजस्वी यादव वापस चले गए लेकिन पूरा गर्दनीबाग धरना स्थल तेजस्वी यादव जिंदाबाद के नारों से गूंज रहा था।

यह भी पढ़े: बिहार: कैबिनेट विस्तार पर बीजेपी और JDU की जंग शुरू, मोदी टीम का अधिक मंत्री पद देने से साफ इनकार

मै प्रतिज्ञा श्रीवास्तव बतौर लेखक TREND BIHAR में कार्यरत हूँ, आप तक खबरें पहुँचाने से पहले मै उसे पूरी तरह से प्रमाणित करती हूँ, फिर सही जानकारी के साथ आप तक पहुंचाती हूँ. अपने सुझाव हमें आप कमेंट के जरिये बता सकते हैं.