चुनाव हारने के बाद भी हरकत में पुष्पम प्रिया चौधरी, नीतीश कुमार से हर रोज पूछती हैं कब होगी शिक्षक भर्ती

पुष्पम प्रिया चौधरी (pushpam priya chaudhary)

विदेश से भारत लौटी बिहार की पुष्पम प्रिया चौधरी मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार थी, लेकिन बिहार की जनता ने उन्हें नजरअंदाज कर दिया.पुष्पम प्रिया को बिहार की जनता ने वोट तो नहीं दिया, लेकिन बिहार की ये युवा नेता बिहारियों के हितों के लिए लगातार आवाज उठा रही है. पुष्पम प्रिया RTI की मदद से हर विभाग में खाली पदों की संख्या निकालकर नीतीश सरकार से उन्हें भरने की गुहार लगा रही हैं.

शिक्षकों की भर्ती जल्दी करने की है मांग


पुष्पम प्रिया अपने सोशल मीडिया अकाउंट से लगातार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को याद दिला रही हैं, कि 94,000 शिक्षकों की भर्ती जल्दी करा दें, जिससे की बिहार में शिक्षा का स्तर और बढ़ सकें.

पुष्पम प्रिया चौधरी (pushpam priya chaudhary)

पुष्पम प्रिया चौधरी ने इस मामले में पहला ट्वीट करते हुए लिखा कि

“मा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी आज ऑफिस समाप्ति से पहले 2 मिनट रूक जाएँ! बस एक फ़ोन, ज़रूरी है! 5 लाख ज़िंदगी ख़ुशी से झूम जाएगी! 94000 परिवार के युवक-युवतियों की शिक्षक नियुक्ति तय कर दें। सरस्वती-पूजा तक हो जाय तो विद्या-देवी की इससे बेहतर पूजा क्या होगी?”

यह भी पढ़े: नितीश पर पुष्पम प्रिया का कटाक्ष ‘वैकेंसी निकालेंगे नहीं तो रोजगार कहां से देंगे’, JDU ने कसा तंज

वहीं दूसरे ट्वीट में उन्होंने कहा कि

आप सुबह पेपर पढ़ते हैं मा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी। लेकिन आज आपके साथ 94000 परिवार भी बेसब्री से अख़बार पलट रहे होंगे…कहीं उनके बच्चे की टीचर नियुक्ति का डेट आ गया हो! आज अंतिम वर्किंग डे है। बस आदेश दे दीजिए विभाग को सरस्वती-पूजा से पहले नियुक्ति की!

पुष्पम प्रिया चौधरी (pushpam priya chaudhary)

तीसरे ट्वीट में पुष्पम प्रिया ने नीतीश कुमार को ये भी याद दिलाया कि उनकी पत्नी भी एक शिक्षक रह चुकी हैं, तो उन्हें शिक्षकों के बारे में जरुर सोचना चाहिए.

“मा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी, आपकी आदरणीय धर्मपत्नी जी, जो शानदार आदर्शवादी महिला थीं, एक शिक्षिका थीं! आपके संघर्ष के दिनों में वे चट्टान की तरह आपकी कवच बनी रहीं! आज आप मुख्यमंत्री हैं…. नियुक्ति को चिंतित 94000 में हज़ारों शिक्षिकाएं भी हैं। कृपया”

आज पुष्पम प्रिया ने एक और ट्वीट करते हुए फिर मुख्यमंत्री जी को याद दिलाया कि

जानती हूँ अधिकारी सलाह दे रहे होंगे कि नियुक्ति 2021-22 वित्तीय वर्ष में हो तो इस साल पैसे बचें! पर यह 200-250 करोड़ की ही बात है मा. मुख्यमंत्री जी! योजना मद के पैसे ग़ैर-योजना मद में देना आपके हाथ में है, और 94000 शिक्षक परिवार की ख़ुशी भी!

यह भी पढ़े: पुष्पम प्रिया ने नीतीश कुमार से पूछा युवाओं को कैसे मिलेगी नौकरी जब BPSC में ही 430 में से 182 पद खाली